Be Ready For The Troubles

Just repeat these lines when the going gets tough आरम्भ है प्रचण्ड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घड़ी की तुम गुहार दो आन बान शान या कि जान का हो दान आज इक धनुष के बाण पे उतार दो आरम्भ है प्रचण्ड… मन करे सो प्राण दे, जो मन करे सो प्राण ले,…